Join WhatsApp Group (250)Join Now
Join Telegram Group (55K+)Join Now
Youtube Channel (32K+)Subscribe Now

Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana राजस्थान घर घर औषधि योजना

Join WhatsApp Group (250)Join Now
Join Telegram Group (55K+)Join Now
Youtube Channel (32K+)Subscribe Now

Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana

राजस्थान घर घर औषधि योजना (Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana) : राजस्थान सरकार ने एक अनूठी पहल की है। घर-घर औषधि योजना के तहत राज्य के सभी परिवारों को चार चयनित औषधीय जड़ी-बूटी के पौधे उपलब्ध कराए जाएंगे। इस अभियान के तहत उन्हें चार औषधीय जड़ी-बूटी के पौधे (तुलसी, अश्वगंधा, गिलोय और कालमेघ) दिए जाएंगे।

राजस्थान सरकार अपने नागरिकों के लिए घर-घर औषधि योजना 2022 शुरू करने जा रही है। इस योजना में, राज्य सरकारअपने नागरिकों को औषधीय पौधे उपहार के रूप में प्रदान करेगा। राजस्थान वन विभाग की नर्सरी सैकड़ों और हजारों औषधीय पौधों के पौधे विकसित कर रही हैं जिन्हें जल्द ही राज्य के निवासियों को उपहार में दिया जाएगा। इस लेख में हम आपको राज्य सरकार की घर-घर औषधि योजना (GGAY) की पूरी जानकारी के बारे में बताएंगे।

What is Ghar Ghar Aushadhi Yojana of Rajasthan

माननीय मुख्यमंत्री महोदय, राजस्थान सरकार द्वारा वर्ष 2021-22 के बजट भाषण में घोषणा की गयी कि “राजस्थान औषधीय पौधों की विविधता तथा गुणवत्ता के लिए प्रसिद्ध है। इसको बढ़ावा देने के लिए ‘घर-घर औषधि योजना’ शुरू की जायेगी। जिसके अंतर्गत औषधीय पौधों की पौधशालायें विकसित कर तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा इत्यादि पौधे नर्सरी से उपलब्ध कराये जायेंगे।“ उक्त घोषणा के अनुसरण में माननीय मंत्रीमंडल की आज्ञा 61 / 204 दिनांक 18.04.2021 द्वारा राज्य में औषधीय पौधों के संरक्षण एवं नागरिकों के स्वास्थ्य रक्षण हेतु घर-घर औषधि योजना के अंतर्गत औषधीय पौधों की पौधशालायें विकसित कर तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा व कालमेघ के पौधे वन विभाग की पौधशालाओं में उपलब्ध कराये जाने संबंधी प्रस्ताव को स्वीकृति दी गयी है।

राजस्थान घर घर औषधि योजना, Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana, घर-घर औषधि योजना के तहत चार औषधीय जड़ी-बूटी के पौधे (तुलसी, अश्वगंधा, गिलोय और कालमेघ) दिए जाएंगे। 
Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana

राजस्थान घर घर औषधि योजना के उद्देश्य

  • राज्य में औषधीय पौधे उगाने के इच्छुक परिवारों को स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए वन विभाग के वृक्षारोपण में बहुउपयोगी औषधीय पौधे उपलब्ध कराना।
  • मानव स्वास्थ्य सुरक्षा एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने तथा औषधि के लिए बहुउपयोगी औषधीय पौधों की उपयोगिता के बारे में व्यापक प्रचार प्रसार कर जन चेतना का विस्तार करना।
  • औषधीय पौधों के प्राथमिक उपयोग एवं संरक्षण एवं संवर्धन हेतु आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग के सहयोग से साक्ष्य आधारित सूचना उपलब्ध कराना।
  • जिला प्रशासन एवं वन विभाग के नेतृत्व में माननीय जन-प्रतिनिधियों, पंचायती राज संस्थाओं, विभिन्न सरकारी विभागों एवं संस्थाओं, विद्यालयों एवं औद्योगिक घरानों आदि के सहयोग से जन-अभियान के रूप में इसे क्रियान्वित करना है।

राजस्थान घर घर औषधि योजना का क्रियान्वयन

  • योजना के क्रियान्वयन के लिए वन विभाग नोडल विभाग होगा। इस योजना को जन अभियान के रूप में संचालित किया जाएगा।
  • इस योजना के क्रियान्वयन के लिए वन विभाग में प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख (पीसीसीएफ एचओएफएफ) की अध्यक्षता में एक कार्यान्वयन समिति का गठन किया जाएगा। इस योजना के लिए राज्य स्तरीय नोडल अधिकारी प्रधान मुख्य वन संरक्षक (विकास)/अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक (विकास) होंगे।
  • योजना के क्रियान्वयन हेतु माननीय जनप्रतिनिधियों, पंचायती राज संस्थाओं, विभिन्न सरकारी विभागों एवं संस्थाओं, विद्यालयों के सहयोग से जिला प्रशासन के नेतृत्व में जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय टास्क फोर्स का गठन किया जायेगा. , और औद्योगिक घरानों, आदि। उप वन संरक्षक जिला स्तरीय टास्क फोर्स के सदस्य सचिव होंगे।
  • जिले में योजना का क्रियान्वयन जिला स्तरीय कार्ययोजना बनाकर किया जायेगा। कार्य योजना में वितरण स्थलों की पहचान, वितरण प्रणाली, विभिन्न विभागों से सहयोग प्राप्त करने की व्यवस्था, पदोन्नति की रणनीति, वितरण और प्रचार के लिए अतिरिक्त वित्तीय संसाधनों की व्यवस्था आदि शामिल होंगे।

Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana की अवधि

  • यह योजना 5 वर्षो (वर्ष 2021-22 से 2025-26) के लिये लागू की जावेगी

Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana लक्ष्य

पांच वर्षों में राज्य के लगभग 1 करोड़ 26 लाख परिवार (जनगणना वर्ष 2011 के अनुसार) इस योजना से लाभान्वित होंगे। चार प्रकार की औषधीय प्रजातियों तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा और कालमेघ के दो पौधे यानी कुल 8 पौधे इस वर्ष सहित पांच वर्षों में तीन बार वन विभाग की नर्सरी से प्रत्येक परिवार को निःशुल्क प्रदान किए जाएंगे।

प्रथम वर्ष में जिले के आधे परिवारों में से प्रत्येक को 8 औषधीय पौधे प्रदान किए जाएंगे और अगले वर्ष शेष प्रत्येक परिवार को 8 औषधीय पौधे प्रदान किए जाएंगे। यह प्रक्रिया चौथे और पांचवें वर्ष में दोहराई जाएगी। तीसरे वर्ष में सभी परिवारों से संपर्क किया जाएगा और इन सभी परिवारों को 8 औषधीय पौधे उपलब्ध कराए जाएंगे। यानी पांच साल में तीन बार राज्य के सभी परिवारों को आठ औषधीय पौधे (कुल 24 पौधे) उपलब्ध कराए जाएंगे.

राजस्थान घर घर औषधि योजना वित्तीय आवंटन

इस योजना के लिए राज्य सरकार द्वारा 210 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। वर्ष 2021-22 के लिए 31.40 करोड़ रुपये का वित्तीय आवंटन किया गया है। वन संभागों को आनुपातिक रूप से बजट आवंटित किया जाएगा। बजट निम्नलिखित कार्यों पर खर्च किया जाएगा

  • लक्ष्य के अनुसार पौधे और 10% अतिरिक्त पौधे तैयार करना
  • वितरण और प्रचार
  • वन विभाग द्वारा प्रचार-प्रसार हेतु राज्य स्तरीय मीडिया योजना एवं प्रचार सामग्री

Rajasthan Ghar Ghar Aushadhi Yojana Key Points for Competetive Exam

योजना का नामराजस्थान घर घर औषधि योजना
योजना का प्रारंभ01 अगस्त 2021 से
योजना की अवधि60 माह / 5 वर्ष (वर्ष 2021-22 से 2025-26)
योजना का संचालनवन विभाग राजस्थान
वित्त पोषितराज्य सरकार राजस्थान (100%)
औषधि पौधेतुलसी, अश्वगंधा, गिलोय और कालमेघ
प्रत्येक लाभार्थी को दिए जाने वाले पौधों की संख्या8 (प्रत्येक औषधीय पौधे 2-2)
योजना का विवरणयहाँ क्लिक करे
Official WebsiteFOREST.RAJASTHAN.GOV.IN
TelegramClick Here
Go to Home PageClick Here

Must Read These Article